बेल के घरेलू नुस्खे – Bel Ke Gharelu Nuskhe

बेल – बेल मे काफी पोषक तत्व पाये जाते है। इन पोषक तत्वों की मदद से हमारे शरीर की अनेक बीमारीयां ठीक होती हैं। बेल गर्मीयो का मौसमी फल है। इसमे टैनिन कैल्शियम फास्फोरस फाइबर प्रोटीन और आयरन जैसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं। बेल पत्र का फल ही नहीं इसके पत्ते और जड़ सभी इस्तेमाल में आते हैं। गर्मी मे यह बल बहुत लाभदायक होता हैं।

1. गर्मियों में लू लग जाने पर बेल के पत्ते को पीसकर पैर के तलवे पर लगाना चाहिए और हाथ के हथेली पर मांथे पर तथा सीने पर लगाकर मालिस करने से लू ठीक हो जाता हैं।

2. बुखार होने पर बेल पत्र का काढ़ा बनाकर पीने से बुखार में आराम मिलता हैं। और ऐसा चार से छः तक करने से बुखार जड़ से खत्म हो जाता है।

3. मधुमक्खी और बर्रय काटने पर बहुत लोगों को अधिक जलन होती हैं। इसके लिए बेल के पत्तियों का रस निकलाकर जलन वाले भाग पर लगाने से जलन शांत हो जायेगा।

4.सांस रोग जैसे सांस फूलना खांसी दम आदि रोगों में बेल के पत्ते का रस निकालकर पीने से श्वास रोग में आराम मिलेगा।

5. मुंह के छाले को ठीक करने के लिए बेल के पत्ते को मुंह में रखकर पान की तरह चबाने से मुंह के छाले ठीक हो जाते हैं।

6. खूनी बवासीर होने पर बेल के जड़ का गूदा निकालकर पीस लें । गूदे और मिश्री को बराबर मात्रा में चूर्ण बनाकर सुबह शाम लेने से बवासीर में आराम मिलेगा।

7. आंखों में कोई भी समस्या होने पर बेल के पत्ते पर घी लगाकर आँखों को सेके और पट्टी बांधे या फिर आंखों में इसके पत्ते के रस को डालने से आंख ठीक हो जाता हैं।

8. रतौंधी की समस्या होने पर 10 ग्राम ताजे बेल पत्र में 7 काली मिर्च मिलाकर पीस लें। इसे 100 मिली पानी में मिलाकर छान लें। 25 शक्कर मिलाकर पीने से आराम मिलता हैं। और रात में बेल पत्र को पानी में भिगो ले। सुबह उठकर उसी पानी से आँखों को धोने से रतौंधी ठीक हो सकती हैं।

9. दिल रोग से छुटकारा पाने के लिए बेल शोक के कुछ बूंद गाय के देशी घी में मिलाकर पीने से दिल मजबूत होता हैं। और दिल के रोग से भी छुटकारा मिलता हैं।

10. एसीडिटी होने पर हमें बेल का जूस पीना चाहिए। बेल का जूस ठंडा होने के कारण हमारे शरीर में पाचन क्रिया को ठीक करता है।

11. स्कर्वी रोग होने पर बेल का जूस पीना चाहिए। क्योंकि बेल के जूस मे विटामिन सी पाया जाता हैं। जिससे स्कर्वी रोग दूर होता हैं।

12. फोड़े फुंंसियो को दूर करने के लिए बेल के रस में शहद मिलाकर पीने से शरीर के विषाक्त पदार्थ बाहर निकाल जाते हैं। और खून साफ हो जाता है। तथा शरीर स्वास्थ्य बन जाता हैं।

13. पेट में लीवर को मजबूत बनाने के लिए बेल मे वीटा कैलोरी की मात्रा अधिक पायी जाती हैं। इससे लीवर को स्वास्थ्य रहने मे मदद करता है। इसके अलावा बेल मे थायमिन और राइबोफ्लेविन विटामिन पाये जाते हैं। लीवर के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं।

14. किडनी को स्वास्थ्य रखने के लिए बेल फल रामबाण दवा की तरह काम करता है। बेल मे काफी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इन पोषक तत्व की मदद से किडनी डिटाँक्सीफाई गंदगी को बाहर निकालता है। जिससे किडनी स्वास्थ्य रहती हैं।

15. जू की समस्या को खत्म करने के लिए बेल के पके फल दो भागों में टोड़ ले। इसके अंदर का मज्जा निकाल कर एक भाग में तिल का तेल और कपूर मिला ले। फिर दूसरे वाले को पहले वाले पर ढका दे। फिर इस तेल को सिर पर लगाने से जू खत्म हो जायेंगे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *