दूब घास के घरेलू नुस्खे – Dub Ghas Ke Gharelu Nuskhe

दूब घास – आयुर्वेद के अनुसार दूब के औषधीय गुणों से कारण ये कई तरह के बीमारियों के लिए उपचार के रूप में इस्तेमाल करते हैं। दूब सिर दर्द आँखों का दर्द नकसीर उल्टी जैसी बिमारियों के लिए बहुत फायदेमंद सिद्ध होता है। इस नंगे पांव चलने से भी अनेक लाभ होते हैं।

1. यादि आपको काम के तनाव और भाग दौड़ के कारण सिर दर्द हो रहा हो तो दूब का घरेलू उपाय बहुत लाभकारी होगा। दूब घास और चूने को बराबर मात्रा में लेकर पानी में पीसकर सिर पर लेप करने से सिर दर्द ठीक हो जाता है।

2. दूब आँखों के लिए बहुत लाभकारी होता है। दूब को पीसकर पलकों पर बाँधने से आँखों का दर्द कम हो जाता है और आँखों से मल का आंंसू खत्म हो जाता है।

3. नाक से खून आने की परेशानी होने पर अनार फूल के रस को दूब के रस के साथ या लाक्षारस या हरड़ के साथ मिलाकर 1-2 बूंद नाक में डालने से नाक मे  खून आना बंद हो जायेगा।

4. बार बार उल्टी आने पर दूब का प्रयोग 5 मिली दूब का रस पीने से उल्टी आना बंद हो जाएगी

5. दूब को सोठ और सौफ के साथ पानी में उबालकर पीने से दस्त का आना बंद हो जाता है।

6. शरीर में सूजन और दर्द होने पर 10- 30 मिली दूब घास का काढ़ा बनाकर पीने से सूजन और दर्द मे आराम मिलता है।

7.बवासीर होने पर दूब पज्चाड़ग को पीसकर दही में मिलाकर पीने से तथा इसके पत्तों को पीसकर बवासीर पर लेप करने से बिमारी मे राहत मिलेगा।

8. मासिक धर्म होने के समय बहुत तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। मासिक धर्म होने पर दर्द होना ब्लीडिंग कम या ज्यादा होना आदि से बचने के लिए दूब का प्रयोग करें।

9. दूब के प्रयोग से पथरी आसानी से निकल जाती हैं। दूब को 30 मिली पानी में पीसकर मिश्री मिलाकर सुबह शाम पीने से पथरी टूट टूट कर निकल जाती हैं।

10. पेशाब के साथ खून आने पर दूब को मिश्री के साथ पीसकर छानकर पीने से पेशाब के साथ खून आना बंद हो जाता हैं।

11. गर्भाशय मे कोई दिक्कत होने पर दूब के रस में सफेद चंदन के चूर्ण और मिश्री मिलाकर पिलाने से गर्भाशय में लाभ मिलता हैं।

12. दाद खाज खुजली से छुटकारा पाने के लिए दूब हरीतकी सैन्धव चक्रमर्द बीज और वनतुलसी के पत्तो को समान मात्रा में लेकर पीसकर लेप करने से दाद खाज खुजली मे आराम मिलेगा।

13. मलेरिया के संक्रमण से राहत पाने के लिए दूब के रस मे अतीस के चूर्ण को मिलाकर दिन में दो तीन बार चटने से मलेरिया के बुखार में अत्यधिक लाभ मिलेगा।

14. मिर्गी के कष्ट को कम करने के लिए दूब का सेवन इस प्रकार करें। 5- 10 मिली दूब पज्चाड़ग के रस को पीने से मिर्गी मे लाभ मिलेगा।

15. शरीर में किसी कारण एलर्जी होने पर दूब और हल्दी का पेस्ट लगाने से शरीर की एलर्जी ठीक हो सकती हैं।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *