काली मिर्च के घरेलू नुस्खे – Kali Mirch Ke Gharelu Nuskhe

काली मिर्च – काली मिर्च मे बहुत औषधीय गुण पाए जाते है। जिससे अनेक रोग में दूर रखा जा सकता हैं। साथ ही अनेक रोग के इलाज में मदद मिलता हैं। इसमें मुख्य रूप से एंटी फ्लैटुलेस ,डयूरेटिक , एंटी इंफ्लेमेटरी, डाइजेस्टिव मैमोरी इनहेसर और पेन रिविलर गुण पाए जाते है।

1. काली मिर्च के सेवन से पाचन संबंधी समस्या खत्म हो जाती है। पेट के पाचन एंजाइमों को उत्तेजित कर पाचन क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है।

2. भृंगराज के रस और चावलों के पानी के साथ काली मिर्च को पीसकर माथे पर लेप करने से आधे सिर का दर्द ठीक हो जाता हैं।

3. बालों के जूँ को नष्ट  करने के लिए बालों मे 10- 12 सीतल फल के बीज और 5-6 काली मिर्च को पीसकर सरसों के तेल में मिलाकर रात में सोने से पहले बालों की जड़ों में लगाकर सुबह बाल धोकर सफा कर ले। जूँ नष्ट हो जाएंगे।

4.  50 ग्राम दही 15 से 20 ग्राम गुड़ और एक डेढ़ ग्राम काली मिर्च चूर्ण मिलाकर इसे दिन में 4-5  बार सेवन करने से जुखाम मे राहत मिलता है।

5. काली मिर्च के आधे ग्राम चूर्ण को एक चम्मच देशी घी में मिलाकर खाने से अनेक प्रकार के आँखों के रोग खत्म करता है।

6. मुहं के छाले को ठीक करने के लिए सेधा नमक काली मिर्च शहद तथा नींबू के रस को मिलाकर तालू पर लेप करने से मुँँह के छाले मे आराम मिलेगा।

7. बार बार खांसी आने पर भोजन खाने पर कष्ट हो तो दिन में 3 – 4 बार काली मिर्च के  हल्के काढे से गलगल करने से दमा खांसी की समस्या दूर हो सकती है।

8. पेचिश की समस्या को दूर करने के लिए काली मिर्च का चूर्ण आधा ग्राम हींग 1/4 ग्राम तथा अफीम 100 मिली ग्राम को मिलाकर जल या शहद के साथ सुबह दोपहर तथा शाम को प्रयोग करने से पेचिश से राहत मिलेगा।

9. काली मिर्च का चूर्ण 25 ग्राम भुना जीरा चूर्ण 35 ग्राम और शुद्ध शहद 180ग्राम को मिलाकर चटनी बनाकर 3 से 6 ग्राम की मात्रा में दिन में तीन बार प्रयोग करने से बावासीर मे फायदेमंद होता है।

10. एक ग्राम काली मिर्च और बराबर मात्रा में खीर या ककड़ी के बीज को 10- 15 मिली पानी के साथ पीसकर  मिश्री मिलाकर छानकर पीने से पेशाब मे जलन तथा पेशाब में दर्द आदि की समस्या से राहत मिलेगा।

11. काली मिर्च को पाने में पीसकर फोड़े फुंसियां वा सूजन पर लेप करने से घाव सुख जाता है। इससे घाव जल्दी भर जाता हैं। और सूजन दूर होती हैं।

12. काली मिर्च चूर्ण को किसी भी वातशायक तेल मे मिलाकर लकवाग्रस्त अंग पर मालिशा करने से बहुत ही फायदा होता हैं।

13. कमजोरी आलस्य उदासीनता आदि दूर करने के लिए काली मिर्च के 5 – 6 दाने सोठ दालचीनी लौंग और इलायची थोड़ी थोड़ी मात्रा मे मिलाकर चाय की तरह उबालकर दूध और चक्कर मिलाकर पीने से कमजोरी दूर हो जाती हैं।

14. एक ग्राम काली मिर्च चूर्ण को शहद के साथ दिन मे तीन बार प्रयोग करने से गैस के कारण होने वाला बुखार तथा पेट दर्द दूर होता हैं।

15. एक गिलास दूध मे 10 -15 काली मिर्च को डालकर अच्छी तरह उबालकर सुबह शाम नियमपूर्वक से वन करने से वीर्य विकार ठीक करता है। गर्मी के मौसम मे मात्रा कम की जा सकती है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *