सिरदर्द : सिरदर्द के कारण, लक्षण और उपचार

सिरदर्द के कारण व लक्षण

सिरदर्द स्वयं कोई रोग नहीं है किंतु यह कई रोगों के आगमन की चेतावनी हैं। सामान्यतया सिर का दर्द अत्यधिक तनाव, सर्दी लगने व अन्य अनेक कारणों से हो सकता हैं किंतु यह समाप्त भी स्वतः ही हो जाता हैं, फिर भी इसे गंभीरता से लिया जाना चाहिए।

उपचार

बादाम :- एक बादाम की गिरी को महीन पीसकर उसे सरसों के तेल मे मिलाकर सिर पर मलने से सिर का दर्द समाप्त हो जाता हैं।

नीबू :-  सिर दर्द होने पर नींबू को चाय में निचोड़ कर पीने से लाभ होता है। नींबू की पत्तियों को कूटकर उसका रस निकालकर सूंघने से भी सिर दर्द गायब हो जाता है। जिनके सिर में हमेशा दर्द रहता है वे भी इस उपाय को आजमाएं, चमत्कारिक असर होगा।

तरबूज :- गर्मी के कारण उत्पन्न सिरदर्द के लिए तरबूज का गूदा कपड़े से निचोड़ लें। और रस को कांच के गिलास में भरकर पीएं।

नारियल :- नारियल की गिरी मे मिश्री मिलाकर प्रातःकाल सेवन करें। सिरदर्द हमेशा के लिए खत्म हो जाएगा।

गाजर व चुकंदर :- गाजर, चुकंदर व खीरे के रस को मिलाकर पीने से सिरदर्द खत्म हो जाता हैं।

बेल :- बेलपत्र का रस निकाल लें। उस रस में भिगाई पट्टियां माथे पर रखें। पुराना सिरदर्द हो तो ग्यारह बेलपत्र पीसकर रस निकालकर पी जाएं। कितना भी पुराना सिरदर्द हो ठीक हो जाएगा।

जायफल :- सर्दी लगने पर सिरदर्द हो तो ललाट पर जायफल को रगड़कर लेप करने से लाभ मिलता हैं।

अंगूर :- किसी भी प्रकार के सिरदर्द मे अंगूर का रस पीने से लाभ होता हैं।

सेव :- प्रतिदिन खाली पेट एक सेव काटकर, नमक लगाकर चबा – चबाकर खाने से पुराना सिर दर्द दूर हो जाता है। यह प्रयोग 10 दिन तक लगातार करें।

आंवला :-  आंवले को सुखाकर उसका चूर्ण बना लेंं। जब भी सिर दर्द हो तो दो चम्मच आंवला चूर्ण में एक चम्मच घी मिलाकर खा लेंं। ऊपर से एक गिलास दूध पिएंं।

 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *